10 जिलों में चल रही अधिगृहीत भूमि बैनामों की जांच

जागरणसंवाददाता,कन्नौज:आगरा-लखनऊएक्सप्रेस-वेकेनिर्माणकेदौरानभूमिबैनामोंऔरउनकेमुआवजावितरणमेंबड़ाहेरफेरकियागयाहै।कन्नौजहीनहींकरीब10जिलोंमेंइसकीजांचआर्थिकअपराधअनुसंधानशाखा(ईओडब्ल्यू)कररहीहै।ईओडब्ल्यूनेसंबंधितजिलोंकेडीएमकोपत्रभेजकरशिकायतोंकीसच्चाईपतालगानेकेकोकहाहै,परअभीतककिसीभीजिलेसेरिपोर्टनहींभेजीगईहै।

आगरा-लखनऊएक्सप्रेस-वेकेलिएजमीनखरीदकोलेकरआईशिकायतोंकीजांच2019सेकानपुरकीआर्थिकअपराधअनुसंधानशाखा(ईओडब्ल्यू)कररहीहै।यूपीडाकेपत्रकेआधारपरईओडब्ल्यूनेएक्सप्रेसकेमार्गमेंपड़नेवालेदसजनपदोंकेडीएमकोपत्रभेजकरजानकारीमांगीहै,लेकिनअभीतककिसीभीडीएमनेआख्याउपलब्धनहींकराईहै।ईओडब्ल्यूकेएसपीबाबूरामनेबतायाकिइन10जिलों(आगरा,फीरोजाबाद,मैनपुरी,इटावा,औरैया,कन्नौज,कानपुरनगर,उन्नाव,हरदोईऔरलखनऊ)केकरीब195लोगोंकीजांचकीजारहीहै।येकेसभीमुआवजेसेजुड़ेहुएहैं।उन्होंनेबतायाकिउनकेपासमुआवजेकेसाथकईस्थानोंपरएक्सप्रेस-वेकेलेआउटमेंभीछेड़छाड़करनेकीबातसामनेआईहै।जबउन्होंनेयूपीडाकोपत्रभेजकरजानकारीकरनीचाहीतोउन्होंनेइसेसिरेनकारदिया।बतायाकिदससितंबरकेबादइसप्रकरणमेंकीजारहीजांचरिपोर्टपरतेजीसेकामहोगा।जिनकीएककापीउत्तरप्रदेशएक्सप्रेस-वेऔद्योगिकविकासप्राधिकरण(यूपीडा)कोभीभेजीजाएगी।

इन्होंनेभीकीशिकायत

-साल2014मेंफीरोजाबादके12सेअधिककिसानोंनेइलाहाबादउच्चन्यायालयमेंयाचिकादायरकीथी।आरोपथाकिउनकीआपत्तियोंकानिस्तारणकिएबिनाहीसरकारलखनऊ-आगराएक्सप्रेस-वेकानिर्माणकरारहीहै।हालांकिअप्रैल2015मेंकोर्टनेइसयाचिकाकोखारिजकरदियाथा।

-जुलाई2015मेंतत्कालीनआइएएस,सूर्यप्रतापसिंहनेदावाकियाथाकिआगरा-लखनऊएक्सप्रेसवेपरियोजनामेंभूमिक्रय/अधिग्रहणघोटाला,रियलएस्टेटघोटाला,लागतमूल्यघोटालावटेंडरप्रक्रियाघोटालाकियागयाहै।

-3500हेक्टेयरभूमिमेंसेकुछभूमिकाअधिकारियोंनेइजाफाकरभूमिमालिकोंसेरिश्वतलेनेकाभीआरोपथा।